fbpx
चंदौलीराज्य/जिलाशिक्षा

चंदौली के किसानों को मिलेगा औषधीय खेती का बाजार, बढ़ेगी आय


चंदौली। जिला मुख्यालय से सटे भिखारीपुर गांव में रविवार को प्रोफेसर एसएन त्रिपाठी मेमोरियल फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गेनाइजेशन की ओर से वर्मी कंपोस्ट खाद बनाने के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें किसानों को कंपोस्ट खाद बनाने की विधि की जानकारी बीएचयू के वैज्ञानिकों द्वारा दी गई।
किसानों को जानकारी देते हुए बीएचयू के प्रोफेसर डॉ यामिनी भूषण त्रिपाठी ने बताया कि एफपीओ के माध्यम से हम जनपद में औषधीय खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने का काम कर रहे हैं। इसके साथ ही इसका बाजार भी उपलब्ध कराने के लिए प्रयासरत हैं। सरकार की मंशा इसके माध्यम से किसानों की आय में वृद्धि करने की है। वर्मी कंपोस्ट खाद के साथ ही केंचुए से भी कंपोस्ट खाद बनाने की विधि किसानों को प्रदान की गई। वैज्ञानिकों ने जानकारी देते हुए बताया कि मृदा के स्वास्थ्य को बेहतर मित्र सूक्ष्मजीव रसायनों के प्रयोग से घट रहे हैं । किससे उत्पादों में कमी आ रही है। किसान खुद खाद तैयार कर सूक्ष्मजीव को बचाने का काम करें। फसलों में दवाओं की भी इससे आवश्यकता नहीं पड़ेगी। हम लोगों का प्रयास है कि छोटे छोटे किसानों को बड़े प्लेटफार्म पर खड़ा करें। इस मौके पर कृषि वैज्ञानिक बीके शर्मा व उपनिदेशक कृषि राजीव कुमार भारती ने बताया कि चंदौली जनपद धान की खेती में प्रदेश में तीसरे स्थान पर है। किसान अपना रजिस्ट्रेशन कराकर सब्सिडी का लाभ ले सकते हैं । किसान नवीन तकनीकी के माध्यम से खेती को बढ़ावा देने में कामयाब होंगे। इस मौके पर पीडी सुशील कुमार, एफपीओ यशवंत यादव, आयुष पाठक, अजय कुमार, अयोध्या प्रसाद, गोरख नाथ, ओम प्रकाश, बचाऊ यादव, कमलेश , वीरेंद्र प्रधान सहित दर्जनों किसान मौजूद रहे।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!