fbpx
चंदौलीराज्य/जिलावाराणसीशिक्षा

डायट प्राचार्य पर कसने लगा शिकंजा, जेडी ने लिया पीड़ित कर्मचारी का बयान

वाराणसी/चंदौली। डायट सकलडीहा में कार्यरत वरिष्ठ लिपिक वरुणेंद्र तिवारी पर गाड़ी चढ़ाने और लोहे का राड लेकर दौडाने के मामले में आरोपित डायट प्राचार्य पर शासन का शिकंजा कसने लगा है। संयुक्त शिक्षा निदेशक अजय द्विवेदी शुक्रवार को टीम के साथ कर्मचारी के वाराणसी स्थिति आवास पहुंचे और घटना के बाबत विस्तार से जानकारी ली। बयान भी दर्ज किया गया। पीड़ित कर्मचारी ने टीम को आपबीती सुनाई। बतादें कि कर्मचारी वरुणेंद्र तिवारी की पुत्री उत्कर्षिता इस मामले में सीएम और डीएम से पिता की सुरक्षा की गुहार लगा चुकी हैं। बहरहाल शासन ने इस मामले को गंभीरता से लिया है।
यह है पूरा प्रकरण
डायट कर्मचारी वरुणेंद्र की पुत्री ने विगत दिनों एक वीडियो जारी कर सनसनी फैला दी थी। सकलडीहा डायट के पूर्व प्राचार्य और वर्तमान में गोरखपुर में नियुक्त पर पिता को जान के मारने के प्रयास का आरोप लगाया। मुख्यमंत्री से सुरक्षा की गुहार लगाई थी। बताया कि डायट प्राचार्य के स्थानांतरण के तुरंत बाद 19 सितंबर को पिता कार्यालय के एक कर्मचारी के साथ विभागीय कागजों को लेकर डायट प्राचार्य के वाराणसी स्थिति आवास गए थे। डायट प्राचार्य पहले से खुन्नस खाए थे और अपने स्थानांतरण के पीछे पिता को वजह मान रहे थे। आशंका थी कि मेरे पिता ने ही शिकायत कर उनका स्थानांतरण कराया है। ऐसे ही निराधार आरोपों के चलते उन्होंने पिता पर गाड़ी चढ़ाने का प्रयास किया और असफल रहने पर लोहे का राड निकालकर दौड़ा लिया। बहरहाल डरे सहमे वरुणेंद्र तिवारी कार्यालय नहीं जा पा रहे हैं। इस प्रकरण की जांच शुरू हो चुकी है।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!