fbpx
ग़ाज़ीपुरराजनीतिराज्य/जिला

जिलाध्यक्ष सहित 37 सपाइयों के खिलाफ एफआईआर

गाजीपुर। पुलिस के साथ धक्का-मुक्की और नोकझोंक में शामिल 37 नामजद और 50 अज्ञात सपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ गुरुवार को शहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया। कोविड-19 महामारी एक्ट के तहत जिन कार्यकर्ताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई उनमें सपा जिलाध्यक्ष रामधारी यादव भी शामिल हैं।
जनसमस्याओं को लेकर सपा कार्यकर्ता बुधवार को जिलाध्यक्ष रामधारी यादव के नेतृत्व में सरजू पांडेय पार्क में इकट्ठा हुए। सपाई जिलाधिकारी को नौ सूत्री ज्ञापन सौंपना चाहते थे। डीएम ने प़त्रक लेने के लिए नायब तहसीलदार को भेज दिया, जो सपाइयों को नागवार गुजरा। नायब को पत्रक देने के इंकार कर दिया और जुलूस के रूप में राइफल क्ल्ब की ओर बढ़ चले। पुलिस कार्यकर्ताओं के इरादे को पहले ही भांप चुकी थी। डीएम तक पहुंचने से पहले ही सभी को रोक दिया गया। इसकेे बाद सपाजन राइफल क्लब गेट के बाहर ही धरने पर बैठ गए। अंत में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने दस कार्यकर्ताओं को अंदर जाने की इजाजत दी। लेकिन फिर भी डीएम पत्रक लेने नहीं आए तो कार्यकर्ता उग्र हो उठे। इसके बाद पुलिस ने लाठी भांजनी शुरू की तो वहां भगदड़ मच गई। कुछ कार्यकर्ताओं को हल्की चोट भी आई। जिलाध्यक्ष सहित 37 कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया। बाद में सभी को निजी मुचलते पर रिहा कर दिया गया। पुलिस ने कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए सभी 37 नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। पुलिसिया कार्रवाई से सपा कार्यकर्ताओं में खासा आक्रोश है। उनका कहना है कि पुलिस डंडे और मुकदमे के दम पर आवाज को दबा नहीं सकती।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button