ख़बरेंराज्य/जिलावाराणसी

अधिवक्ताओं ने न्यायिक अधिकारी के खिलाफ खोला मोर्चा, धरना-प्रदर्शन

वाराणसी। विगत तीन अक्तूबर को धारा 151 में गिरफ्तार कांग्रेस नेताओं को जमानत देने में हीलाहवाली और अधिवक्ता के साथ दुव्र्यवहार का आरोप लगाते हुए अधिवक्ताओं ने न्यायिक अधिकारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। सेन्ट्रल बार एसोसिएन के महामंत्री शैलेन्द्र सिंह बब्लू सहित बनारस बार के पूर्व महामंत्री पं धीरेन्द्र नाथ शर्मा, वरिष्ठ अधिवक्ता भूपेन्द्र सिंह, आनंन्द शंकर मिश्रा, संजय मिश्रा, अनूप सिंह, विकास सिंह सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता न्यायिक अधिकारी के कार्यालय के बाहर जमीन पर धरने पर बैठ गए और प्रदर्शन शुरू कर दिया। अधिकारी जब वहां से जाने लगीं तो अधिवक्ताओं ने बिना कारण बताये वहां से जाने का विरोध भी किया और जमकर नारेबाजी की।
अधिवक्ता अशोक सिंह ने विगत तीन अक्टूबर को 151 के तहत गिरफ्तार होकर आये 09 कांग्रेसी नेताओं की 04 अक्टूबर को जमानत करवाई थी। जमानत मंजूर करने के बाद एसीएम चतुर्थ ने जमानतदारों का वेरिफिकेशन करवाया जो कल वेरिफाई होकर आ गया। आरोप है कि इसके बावजूद न्यायिक अधिकारी ने गिरफ्तार कांग्रेसी नेताओं को रिहा नहीं किया। जिसकी जानकारी मांगने पर अधिवक्ता अशोक सिंह से कहा बाद में निर्णय करेंगी। दूसरे दिन भी टालमटोल के बाद
अधिवक्ता अशोक सिंह न्यायिक अधिकारी के आवास पर गये। जहां अधिवक्ता को डेढ़ घंटे खड़ा कराने के बाद मिलने से इंकार कर दिया। इससे अधिवक्ता नाराज हो गए। न्यायिक अधिकारी कचहरी आईं तो अधिवक्ताओं ने उनसे मिलकर जानकारी चाही। इसपर अधिकारी आगबबूला होकर वहां से जाने लगीं। तब अधिवक्ताओं ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया और वहीं जमीन पर बैठकर धरना देने लगे। अधिवक्ताओं ने तालाबंदी कर उनके न्यायालय का बहिष्कार करने के लिये प्रस्ताव दिया है। कुल मिलाकर कचहरी का माहौल गर्म है।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!