fbpx
क्राइमप्रयागराजराज्य/जिला

मुख्तार अंसारी व मुन्ना बजरंगी गिरोह के दो कुख्यात सुपारी किलर मुठभेड़ में ढेर, जेलर की कर दी थी हत्या

प्रयागराज। बाहुबली माफिया मुख्तार अंसारी, माफिया मुन्ना बजरंगी और दिलीप मिश्रा गैंग के लिए काम करने वाले दो कुख्यात शार्प शूटरों को एसटीएफ गुरुवार को तड़के नैनी थाना क्षेत्र के अरैल में मार गिराया। मारे गए बदमाशों में पचास हजार रुपये का इनामी वकील पांडेय उर्फ राजीव पांडेय उर्फ राजू पुत्र सहस राम पांडेय निवासी बडा शिव मंदिर थाना गोपीगंज जनपद भदोही और एचएस अमजद उर्फ अंगद उर्फ पिन्टु पुत्र हफीजउल्ला निवासी रामसहायपुर थाना व जनपद भदोही शामिल हैं। मौके से 30 और नौ एमएम की पिस्टल व जिंदा कारतूस और मोटरसाइकिल बरामद हुई। दोनांे अपराधियों ने मुन्ना बजरंगी के कहने पर अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर सन् 2013 में बनारस के तत्कालीन डिप्टी जेलर अनिल कुमार त्यागी की निर्मम हत्या कर सनसनी फैला दी थी। भदोही के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा भी राजीव पांडेय से खुद की जान को खतरा बता चुके थे।

माफिया मुन्ना बजरंगी ने अपनी खुन्नस निकालने के लिए 23 नवंबर 2013 को डिप्टी जेलर अनिल त्यागी की हत्या करवा दी। दरअसल मुन्ना बरजंगी डिप्टी जेलर अनिल त्यागी की सख्ती के काफी परेशान था। जेल के अन्य कर्मचारियों पर वर्चस्व जमाने के लिए ही उसने अनिल त्यागी की हत्या करवाई। एसटीएफ से साथ मुठभेड़ में ढेर दोनों बदमाश वकील पांडेय और अमजद भी जेलर की हत्या करने वाले बदमाशों में शामिल थे। अहमद ने ही हत्या के लिए छह पिस्टलों का इंतजाम किया था। पिछले साल 28 मई को माफिया दिलीप मिश्रा के काॅलेज से गिरफ्तार खान मुबारक गैंग के शार्प शूटर और एक लाख के इनामी नीरज सिंह ने पूॅछताछ में बताया था कि माफिया दिलीप मिश्रा के कहने पर वकील पांडेय के साथ मिलकर सुजीत सिंह, नैनी जो आरएसएस से सम्बन्ध रखते हैं और नन्हू खाॅ के दामाद समील अहमद पुत्र मंजूर अहमद जो सपा के नेता भी है, की हत्या करने के लिए तीन बार रेकी किया। लेकिन नीरज सिंह के पकड़ जाने के कारण हत्या रुक गई। पुलिस के अनुसार मारे गए बदमाश प्रयागराज में किसी राजनैतिक व्यक्ति की हत्या की फिराक में थे।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!