fbpx
ख़बरेंचंदौलीराज्य/जिला

चकिया रानी की बौलिया से आ रही भ्रष्टाचार की गंध, लाखों खर्च, हाल जस का तस

संवाददाताः मुरली श्याम

चंदौली। चकिया नगर में स्थित महारानी की बौलिया जहां कभी महारानी स्नान करती थीं आज बदहाल पड़ी है। पूरा परिसर खंडहर में तब्दील हो गया है। इसी तालाब में आस्था के पर्व छठ पर हजारों की भीड़ उमड़ती है। ऐसा नहीं कि हुक्मरानों ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया। तकरीबन एक करोड़ रुपये स्वीकृत हुए। 50 लाख रुपये अवमुक्त भी हुए लेकिन काम 10 फीसद भी नहीं हुआ। लाखों रुपये भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए। ठेकेदार से लेकर अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों तक धन की बंदरबाट हुई।


चकिया विधायक ने तकरीबन एक वर्ष पूर्व छठ पूजा के दौरान महिलाओं की सुविधा के लिए मंच से सुंदरीकरण की घोषणा की। विधायक ने अपने विधायक निधि से 1 करोड़ 5 लाख रुपए महारानी की बौलियां को चमकाने के लिए स्वीकृत भी किए। इस प्रोजेक्ट पर 50 परसेंट की धनराशि रिलीज कर दी गई है लेकिन कार्य 10 फीसदी भी नहीं हुआ है। इसके बाद काशी नरेश महाराजा कुंवर अनंत नारायण सिंह ने रानी की बौलिया की भूमि को अपनी भूमि बताते हुए कमिश्नर के जरिए कार्य पर रोक लगवा दी। सुंदरीकरण का सपना अधूरा रह गया। जो कुछ काम भी हुआ उसमें दोयम दर्जे की सामग्री इस्तेमाल की गई। फिलहाल मामला नगर पंचायत बनाम महाराजा काशी नरेश अनंत नारायण सिंह कोर्ट लंबित चल रहा है। देखना यह है कि पूर्व में कराए गए आधे-अधूरे कार्य और टनाटन भुगतान मामले में प्रशासनिक अमला जांच और रिकवरी की कार्यवाही करता है या नहीं।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button