fbpx
क्राइमचंदौलीराज्य/जिला

ध्यान से देखिए इस उचक्के को, पुलिस कर रही तलाश, बाइक की डिक्की से उड़ा दिए एक लाख

संवाददाता: कार्तिकेय पाण्डेय

चंदौली। चकिया नगर स्थित मस्जिद के पास उचक्के ने बाइक की डिक्की तोड़ककर बैग में रखे एक लाख 15 हजार रुपये उड़ा दिए। परचून की दुकान से सामान खरीदकर वापस पहुंचे बाइक स्वामी ने डिक्की खुली और बैग गायब देखा तो सन्न रह गए। तत्काल चकिया कोतवाली पहुंचकर लिखित तहरीर दी। कारमाने को अंजाम देता उचक्का सीसी टीवी कैमरे में कैद हो गया है। उसकी तलाश कर रही पुलिस को बिशुनपुरा गांव के पास खाली बैग मिला।
चकिया कोतवाली क्षेत्र के मुजफ्फरपुर गांव निवासी शशि प्रकाश दुबे ने आवश्यक कार्य के लिए बैंक से ₹100000 निकाले। 15 हजार रुपये पहले से थे। इस तरह एक लाख 15 हजार रुपये काले रंग के बैग में रखकर बाइक की डिक्की में रख दिए। नगर के रोहित जनरल स्टोर के बाहर गाड़ी खड़ीकर सामान खरीदने लगे। इतने में उचक्के ने बाइक की डिक्की का लाक तोड़कर रुपये से भरा बैग गायब कर दिया और पैदल की भाग निकला। खरीदारी के बाद भुक्तभोगी दुकान से बाहर निकला और डिक्की खुली देखी तो सन्न रह गया। कोतवाली पहुंचकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। सीसीटीवी कैमरे में उचक्के की हरकत कैद हो गई है। भुक्तभोगी ने बताया कि सीसी टीवी कैमरे में दिख रह युवक बैंक के बाहर भी नजर आया था। उसके साथ एक युवती भी थी। बहरहाल पुलिस उचक्के की तलाश में निकली तो चकिया चंदौली मार्ग पर बिशनपुरा गांव के पास भुक्तभोगी का खाली बैग बरामद हुआ।

चकिया में बढ़ रहीं चोरी और उचक्कागिरी की घटनाएं, खुलासे में पुलिस फिसड्डी
चकिया पुलिस नगर में पैदल मार्च और रात में गश्त का दावा करती है। बावजूद चोरों और बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। पिछले दिनों चकिया नगर के मोहम्मदाबाद स्थित इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान से चोरों ने तिजोरी से हजारों रुपए चुरा लिए। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। लेकिन पुलिस मामले का खुलासा करने में नाकाम रही। उसके कुछ दिन बाद ही नगर के निर्भयदास स्थित विजय वर्मा की पेंट की दुकान से चोरों ने हजारों रुपये की चोरी की। यह घटना भी सीसीटीवी फुटेज में आई। लेकिन पुलिस के हाथ खाली ही रहे। नगर से सटे तिलोरी गांव स्थित फर्नीचर की दुकान में भी चोरों ने सेंध लगाई। पुलिस यहां भी लकीर ही पीटती रही। आपराधिक घटनाओं से लोगों में दहशत है।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!