fbpx
Life styleहेल्थ

Health : खांसने और छींकने से भी फैल सकता है चिकनपॉक्स का ये नया वेरिएंट, बचाव के लिए जान लें इसके लक्षण

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिकों ने चिकनपॉक्स के एक नए वेरिएंट की खोज की है। आइए, जानते हैं इसके कारण और लक्षण।

चिकनपॉक्स का ये नया वेरिएंट है क्या

दरअसल, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिक मंकीपॉक्स पर रिसर्च कर रहे थे और तब उन्होंने चिकनपॉक्स के इस नए वेरिएंट की खोज की। चिकनपॉक्स के इस वेरिएंट को क्लैड 9 कहते हैं। ये वैरीकेला जोस्टर वायरस के जरिए फैलता है और अमेरिका, ब्रिटेन और जर्मनी जैसे देशों में इसके मामले ज्यादा हैं।

चिकनपॉक्स क्लैड 9 के लक्षण

चिकनपॉक्स का ये वायरस खांसने और छींकने से भी फैल सकता है। इसके अलावा ये संक्रमित लोगों के संपर्क में आकर भी फैल सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप इसके तमाम लक्षमों पर नजर बनाए रखें। जैसे कि

खुजली

लाल धब्बे जो बाद में तरल पदार्थ से भरे फफोले में बदल जाते हैं।
ये त्वचा की जलन अक्सर बुखार
सिरदर्द
भूख न लगना
शरीर में दर्द और थकान जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं।
वैरिकोज वेन्स के अलावा इन 4 कारणों से भी शरीर पर नजर आती हैं नीली नसें, देखकर अनदेखा न करें!

बचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान

चिकनपॉक्स से बचाव के लिए आपको इन बातों का रखें ध्यान रखना चाहिए जैसे कि पर्सनल हाइजीन का खास ख्याल रखें। भीड़भाड़ वाली जगहों से बचें।छींकने और खांसने के दौरान मुंह और नाक को ढक कर रखें। संक्रामक एयर ड्राप्लेट्स के संपर्क में आने से बचें। लक्षण देखते ही डॉक्टर के पास जाएं। इसके अलावा बचाव के लिए चिकनपॉक्स का टीकाकरण करवाएं। साथ ही शरीर में हाइड्रेशन बनाएं रखें, लक्षण दिखते हुए डॉक्टर के पास जाएं और इस बीमारी से अपना बचाव करें।

Back to top button
error: Content is protected !!