fbpx
राजनीतिराज्य/जिलावाराणसी

केंद्रीय मंत्री के वाहन के आगे कूदे, दिखाया काला कपड़ा, लहराई चूड़ी, गौ-बैक के नारे

वाराणसी। केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी को वाराणसी में इतने जोरदार विरोध प्रदर्शन की उम्मीद नहीं रही होगी। हाथरस कांड के विरोध की आग में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का वाराणसी दौरा दिन भर झुलसता रहा। सर्किट हाउस पहुंचने से पहले सपा की महिला कार्यकताओं के आक्रोश का सामना उन्हें करना पडा तो वहां से निकलते समय कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन्हों चूड़ी और काला कपड़ा दिखाकर विरोध की आग में घी डाल दिया। समृति इरानी गो बैक के नारे भी लगे। असहज हुईं केंद्रीय मंत्री किसी तरह वहां से निकल सकीं। इस दौरान दर्जनों कांग्रेस कार्यकताओं को पुलिस ने हिरातस में ले लिया। अपने दूसरे कार्यक्रम स्थल अदलपूरा के शहंशापुर पहुंचने से पहले केंद्रीय मंत्री को रास्ते में भी जगह जगह विराध प्रदर्शन का सामना करना पड़ा।
सर्किट हाउस से किसी प्रकार सपा की महिला कार्यकर्ताओं से पिंड छुडा कर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी निकली ही थीं कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया। फिर क्या था भारी नारेबाजी के बीच काले झंडे तो दिखाए ही साथ में चूड़ी भी दिखा दी। चूड़ी दिखाते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय मंत्री को निर्भया कांड की याद दिलाई। जब विपक्ष में रहते हुए कानून व्यवस्था के मुद्दे पर तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चूड़ी भेंट करने की बात कही थी। आक्रोशित और जोश में लबरेज कार्यकर्ताओं को रोकने में सुरक्षाबलों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस की महिला कार्यकर्ता को दिया मास्क

विरोध प्रदर्शन के दौरान एक महिला कांग्रेसी हाथ में पोस्टर लिए केंद्रीय मंत्री के एकदम से करीब पहुंच गई। स्मृति इरानी ने मास्क नहीं होने पर उसे टोका और अपने वाहन से एक मास्क निकालकर उसे दिया। कांग्रेस यूथ के कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान पुलिस प्रशासन के हाथपांव फूल गए। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने उग्र कार्यकर्ताओं को काबू में कर लिया। इस दौरान मनीष चाौबे, हरीश मिश्रा, मयंक , सरिता पटेल सहित दर्जनों कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button