fbpx
प्रशासन एवं पुलिसमिर्ज़ापुरराज्य/जिला

तिहरे हत्याकांड का खुलासा नहीं होने पर इंस्पेक्टर और तीन दारोगा लाइन हाजिर

मिर्जापुर। लालगंज थाना क्षेत्र के बामी गांव निवासी तीन किशोरों की पहली दिसंबर को हुई हत्या के मामले में पुलिस के हाथ अभी तक खाली ही हैं। इस लोमहर्षक घटना ने पूरे सूबे को हिलाकर रख दिया था। मासूम बच्चों को किस वजह से मारा गया पुलिस इसका भी पता नहीं लगा सकी है। बहरहाल एसपी ने इस मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रभारी निरीक्षक थाना लालगंज हरिशचंद्र सरोज, चाौकी प्रभारी लहंगपुर पंकज राय, उप निरीक्षक हैदर अली, हेड कांस्टेबल सुदिष्ट कुमार पाण्डेय और चाौकी प्रभारी डंकीनगंज अनवर खां को लाइन हाजिर कर दिया है।

बामी गांव निवासी सुधांशु पुत्र राजेश तिवारी, शिवम पुत्र राकेश तिवारी और हरिओम पुत्र मुन्नालाल (तीनों की उम्र तकरीबन 14 वर्ष) पहली दिसंबर की दोपहर घर से यह कहकर निलले की जंगल में बेर खाने जा रहे हैं। इसके बाद नहीं लौटे तो परिवार के लोगों ने खोजबीन शुरू कर दी। पूरी रात किशोरों को ढूंढने का प्रयास करते रहे। अगले दिन गैपुरा पुलिस चाौकी क्षेत्र के लेहड़िया गांव स्थिति एक बंधी के पास बच्चों का कपड़ा मिलने के बाद बंधी में तलाश कराई तो तीनों का शव बरामद हुआ। तीनों किशोर एक ही परिवार से थे और आठवीं कक्षा के छात्र थे। पहले तो पुलिस ने यह कहा कि बच्चों की डूबने से मौत हुई है। लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हत्या की पुष्टि होने के बाद अज्ञात के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया। तब से लेकर अब तक पुलिस केवल खाक ही छान रही है।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!