क्राइमराज्य/जिलावाराणसी

शातिर अपराधी कट्टा उगलेगा राज, कई खाकी व खादीधारी होंगे बेनकाब


वाराणसी। बीते 28 अगस्त को चाौकाघाट काली मंदिर के पास हिस्ट्रीशीटर और जमीन की दलाली करने वाले अभिषेक सिंह प्रिंस की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। एक निर्दोष ट्राली चालक भी बेवजह अपराधियों की गोली का शिकार हो गया था। दोहरे हत्याकांड ने बनारस में सनसनी फैला दी। निर्दोष की मौत से कानून व्यवस्था के खिलाफ विरोध के स्वर मुखर होने लगे। बहरहाल पुलिस ने इसे चुनौती के रूप में लिया और दबिश तेज कर दी। इस हत्याकांड के मुख्य अभि‍युक्‍त और साजि‍शकर्ता जौनपुर निवासी विवेक सिंह कट्टा ने हाल ही में एक पूर्व मुकदमें में जौनपुर न्यायलय में सरेंडर किया था। कट्टा को शुक्रवार को वाराणसी के सीजीएम कोर्ट लाया गया और पेश किया गया।
चाौकाघाट हत्याकांड में वाराणसी पुलिस ने गुरुवार को तीन और बदमाशों को गिरफ्तार कि‍या था। इसी मामले में जौनपुर में बंद हत्या के मुख्य साजिशकर्ता विवेक सिंह कट्टा को वाराणसी न्यायालय में पेश किया गया। पेशी के बाद कट्टा को न्यायिक अभिरक्षा में चाौकाघाट स्थित जिला जेल भेज दिया गया। वाराणसी पुलिस अब कट्टा को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। पुलिस कट्टा से हत्या की वजह और हत्या में प्रयुक्त असलहों के बारे में भी पूछताछ करेगी और उसे बरामद करने का प्रयास करेगी।


कई चेहरे होंगे बेनकाब
अभिषेक सिंह प्रिंस की हत्या के बाद यह बात सामने आई थी कि उसके साथ जमीन के धंधे में कई रसूखदार लोगों ने अपना पैसा लगा रखा था। यह भी पता चला कि इसमें कुछ खाकी वाले भी शामिल थे। जबकि प्रिंस का कुछ नेताओं के साथ भी उठना बैठना था। वहीं बात प्रिंस हत्याकांड के मुख्य आरोपित विवेक सिंह कट्टा की करें तो कट्टा को भी कई रसूखदार नेताओं का खास माना जाता है। चंदौली के एक जनप्रतिनिधि के साथ भी उसे कई दफा देखा गया। ऐसे में यह बात तो साफ है कि कट्टा मुंह खोलेगा तो कई राज निकलकर बाहर आएंगे और कई चेहरे बेनकाब होंगे।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!