ख़बरेंमिर्ज़ापुरराज्य/जिला

एआरटीओ कार्यालय पर डिप्टी कलेक्टर की औचक छापेमारी, पकड़े गए पांच दलाल

मीरजापुर। परिवहन विभाग कार्यालयों में दलालों का काकस टूटने का नाम नहीं ले रहा। अधिकारियों और बिचैलियों का गठजोड़ योगी सरकार की जीरो टालरेंस नीति पर पानी फेर दे रहा है। बानगी शुक्रवार को एआरटीओ कार्यालय मीरजापुर में देखने को मिली। लगातार मिल रहीं शिकायतों के मद्देनजर डीएम सुशील कुमार पटेल ने डिप्टी कलेक्टर अमित कुुमार और खाद्य सुरक्षा अधिकारी आकाश दूबे की टीम गठित कर औचक छापेमारी का निर्देश दिया।
दोनों अधिकारी एआरटीओ कार्यालय पहुंचे। कुछ दूरी पर वाहन खड़ाकर पैदल ही कार्यालय पहुंचे। एआरटीओ रविकांत शुक्ला उपस्थिति थे। अपना काम कराने आए लोगों को जैसे ही पता चला कि डिप्टी कलेक्टर हैं शिकायतों का पुलिंदा खोल दिया। आरोप लगाया कि पैसा देने पर दलाल जल्दी ड्राइविंग लाइसेंस बनवा देते हैं। पैसा नहीं देते हैं तो औपचारिकताओं के नाम पर कई दिन कार्यालय का चक्कर लगवाया जाता है। कार्यालय के भीतर और बाह कई दलाल मिल गए। दलालांे ने भी साफ कहा कि अधिकारियों को पैसे देकर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते हैं। पांच दलालों के पकड़ा गया। अधिकारियों ने डीएम को अपनी आख्या सौंपी। बताया कि विभागीय अधिकारी बिचैलियों को रोकने का कोई प्रयास नहीं कर रहे। बहरहाल लोगों की नजर डीएम की कार्रवाई पर टिकी है।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!