मिर्ज़ापुरराजनीतिराज्य/जिला

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने डीएम के खिलाफ फिर फो़ड़ा लेटर बम, आरोप और गंभीर

मीरजापुर। पूर्व केंद्रीय मंत्री और मीरजापुर की सांसद अनुप्रिया पटेल और डीएम सुशील कुमार पेटल के बीच की तल्खी और बढ़ती जा रही है। सांसद ने रविवार को जिलाधिकारी को पत्र लिखकर उनके कार्यों को नजर अंदाज करने का आरोप लगाया था। हालांकि जिलाधिकारी को सहजता से आरोपों को खारिज कर दिया। लेकिन नाराज सांसद ने सोमवार को दूसरे दिन भी लेटर हमला जारी रखते हुए आरोपों की गंभीरता को और बढ़ा दिया। डीएम को भेजे गए दूसरे पत्र में आरोप लगाया है कि जल जीवन मिशन के अंतर्गत 17 अक्तूबर को गोठौरा गांव में आयोजित शिलान्यास कार्यक्रम की उनको सूचना तक नहीं दी गई। सोशल मीडिया और समाचार पत्रों में प्रकाशित खबरों के जरिए उन्हें इस बात की जानकारी हुई। चेताया कि यदि 19 अक्तूबर को शाम सात बजे तक पत्र का जवाब नहीं मिला तो विशेषाधिकार हनन की कार्रवाई प्रारंभ करने के साथ ही मुख्यमंत्री को प्रशासनिक कार्रवाई के लिए अनुरोध किया जाएगा। इस बाबत जिलाधिकारी का कहना है कि जल जीवन मिशन परियोजना के तहत विंध्य क्षेत्र में पेयजल आपूर्ति के विभिन्न कार्य प्रस्तावित हैं। यह वृहद व महत्वाकांक्षी परियोजना है। इसका शिलान्यास या उद्धाटन अभी नहीं कराया गया है। शिलान्यास शासन के निर्देशानुसार कराया जाएगा।

सांसद व डीएम के बीच बढ़ती जा रही तल्खी

साफ नजर आ रहा है कि अपना दल एस और और भाजपा के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद अनुप्रिया पटेल की डीएम को लेकर नाराजगी कुछ यही इशारा कर रही है। एक दिन पहले ही जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल को पत्र लिखकर सांसद द्वारा कराए जाने वाले विकास कार्यों में रुचि नहीं लेने का आरोप लगाया था। वहीं सोमवार को दूसरा पत्र जारी करते हुए रविवार को गोठौरा गांव में 2127 करोड़ रुपये लागत की हर घर नल, हर घर जल योजना के शिलान्यास कार्यक्रम की सूचना नहीं देने का आरोप लगा दिया। सांसद ने डीएम से चार बिंदुओं पर जवाब मांगा है। सूत्रों की माने को डीएम के खिलाफ एक और पत्र आ सकता है। यह प्रकरण जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!