fbpx
ख़बरेंचंदौलीराज्य/जिला

धान के कटोरे में अन्नदाता परेशान, अटका धान खरीद का भुगतान, कैसे हो समाधान

जय तिवारी की रिपोर्ट…

चंदौली। कहने को चंदौली धान का कटोरा लेकिन अन्नदाता बेहाल और परेशान। धान खरीद केंद्रों पर सैकड़ों किसानों का अटका पड़ा है करोड़ों रुपये का भुगतान। कुछ तकनीकी दिक्कतों के चलते तो कुछ अधिकारियों की लापरवाही से। बेहाल किसान केंद्रों और अधिकारी कार्यालयों का चक्कर काटने को विवश हैं।
नेफेड के केंद्रों पर धान बेचने वाले 219 किसानों को दिसंबर माह के खरीद का अब तक भुगतान नहीं किया गया है। विभागीय अधिकारियों की दलील है कि तकनीकी दिक्कतों के चलते यह समस्या आ रही है। वहीं कमालपुर क्षेत्र के बभनियाव, एवतीं, ढोढिया में पीसीएफ की ओर से संचालित सहकारी केंद्रों पर धान बेचने वाले किसान भी दो माह से भुगतान का इंतजार कर रहे हैं।
किसानों की तकलीफ समझाने वाला कोई नहीं। यही वजह है कि खेतों में हल चलाकर अन्न उपजाने वाला किसान आंदोलन की राह पकड़ता जा रहा है। धान का कटोरा कहे जाने वाले चंदौली जिले में भी कमोवेश ऐसे ही हालात बन रहे हैं। यहां धान क्रय केंद्रों पर सैकड़ों किसानों का भुगतान अटका पड़ा है। किसान धान क्रय केंद्रों का चक्कर काट रहे हैं। विडंबना यह कि उनकी समस्या यथावत बनी हुई है। धान खरीद के नोडल अधिकारी और डिप्टी आरएमओ अनूप श्रीवास्तव का कहना है कि तकनीकी समस्याओं के चलते नेफेड से जुड़े 219 किसानों का भुगतान लंबित है। एजेंसी से लगातार बात हो रही है। जल्द की किसानों के खाते में धन चला जाएगा। पीसीएफ सहित अन्य एजेंसियों का कोई भी भुगतान लंबित होने की जानकारी नहीं है। यदि कोई समस्या है तो किसान सूची के साथ शिकायत दर्ज करा सकते हैं। समाधान किया जाएगा।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!