fbpx
क्राइमचंदौलीराज्य/जिला

Chandauli: चकिया क्षेत्र में हुई आटो चालक की हत्या मामले का पुलिस ने किया खुलासा, किराए का पैसा न देना पड़े इसलिए साथियों के साथ मिलकर मार डाला

चंदौली। चकिया कोतवाली क्षेत्र के भटवारा कला दुलहिया दाई मंदिर के पास विगत 18 मई को की गई आटो चालक की हत्या मामले में पुलिस ने घटना का अनावरण करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। किराए का पैसा न देना पड़े इसलिए आदर्श मिश्रा उम्र 21 वर्ष पुत्र गिरीश मिश्रा, रामनगर, वाराणसी की हत्या की गई थी। घटना में प्रयुक्त हथियार भी बरामद कर लिया गया है।

ये रहा पूरा मामला
एएसपी विनय कुमार ने बताया कि 19 मई को अभिषेक मिश्रा निवासी मच्छरहट्टा थाना रामनगर ने तहरीर दी कि मेरा छोटा भाई आदर्श मिश्रा जो आटो चलाता है 18 मई की रात से लापता है। वह शाम 7.30 बजे रामनगर में मिला था औश्र बताया कि दो सवारियों को लेकर अदलहाट जा रहा हूं। रात 9.37 आदर्श ने फोन कर पूछा था कि फोन पे पर पैसे आए हैं क्या। आटो में सवार लोगों से विवाद की भी आवाज आ रही थी। उसके भाई आदर्श का मोबाइल बन्द हो गया। उधर 19 मई को चकिया क्षेत्र में आदर्श का शव बरामद हुआ। घटना के अनावरण को एसपी ने तीन टीम गठित की थी।

आरोपियों ने उगला राज

चकिया पुलिस ने विजेन्द्र कुमार 19 वर्ष पुत्र रामलाल राम निवासी ग्राम टकटकपुर, पंकज कुमार 19 वर्ष ग्राम टकटकपुर और दो बाल अपचारियों को बैरी बाजार के बाहर शेरवा जाने वाले मार्ग से गिरफ्तार किया। इन्हीं चारों ने आटो चालक की हत्या की थी। आरोपियों ने बताया कि 17 मई को नासिक से बनारस पहुंचे थे तथा वह अपने मित्र अंश के यहां मारूति नगर में रुके थे। बनारस में काम नहीं मिला तो कैंट स्टेशन से लंका आटो स्टैंड तक आए और वहां से वापस अपने घर आने के लिए रिजर्व आटो तय करने लगे तो वहां पर 700 और 800 रूपये से कम कोई भी आटो चालक अदलहाट जाने के लिए तैयार नहीं हो रहा था। अंत में एक आटो चालक 600 रुपये मंे अदलहाट जाने को तैयार हुआ जिसपर हम लोग बैठकर अदलहाट आ रहे थे कि रामनगर किले के पास साहनी लस्सी की दुकान के सामने आटो चालक का भाई मिला। आटो चालक आदर्श ने भाई को बताया कि मैं सवारी लेकर 600 रुपये में अदलहाट जा रहा हूं। उसने अपने भाई को मना किया कि रात के समय इतना दूर मत जाओ लेकिन वह नहीं माना और हम लोगांे को लेकर अदलहाट चल दिया। हम लोगों के पास 150 रुपये थे। टोल टैक्स से 100 मीटर आगे जाकर एक अंडे की दुकान पर एगरोल खाने के लिए आटो रुकवाया तो आटो वाला पानी लेने चला गया उसी समय करीब 8 बजे बाल अपचारी ने अपने मोबाइल से अपने मित्र विजेन्द्र को फोन करके दो लड़कों के साथ शेरवा आने को कहा। हम लोगों के पास पैसे नहीं थे इसलिए हम लोगांे ने सोचा कि आटो वाला पैसा न देने पर विवाद करेगा। जब हम लोग अदलहाट के करीब पहुंचे तो पुनः एक आरोपी ने विजेन्द्र को फोन करके दुलहिया माता मंदिर के पास बुलाया। हम लोग शेरवा पहुंचने वाले थे तो आटो चालक ने बोला कि मैं शेरवा से आगे नहीं जाऊंगा । इस बात पर हम लोग आगे जाने के लिए कहे तो हम लोगों से गाली गलौच और हाथापाई पर उतर आया। हम लोगों ने आटो चालक को जान से मारने का मन बना लिया। 100 रुपये अधिक देने का लालच देकर दुलहिया माता मंदिर के पास चलने को राजी कर लिया। दुलहिया माता मंदिर के पास पहुंचे तो विजेन्द्र अपने साथी पंकज कुमार को लेकर लोहे की पाइप व सब्बल के साथ खडा था। जब हम लोग उतरे तो आटो चालक हम लोगों से पैसा मांगने लगा। एक आरोपी ने पेटीएम करने को कहा तो आटो चालक ने अपने भाई का नंबर दे दिया। एक बाल अपचारी ने फर्जी 600 ट्रांसफर कर देने की बात बताई। उसने अपने भाई को फोन करके पूछा तो उसके भाई ने बताया कि पैसा नहीं आया है। इस बात पर आटो चालक हम लोगों से पुनः वाद विवाद करने लगा। इस पर सभी लोगों ने मिलकर अभियुक्त के सिर पर सब्बल व पाइप से प्रहार कर हत्या कर दिया तथा हत्या में प्रयुक्त सब्बल व पाइप ले जाकर टकटकपुर में खलिहान में बने भूसे की झोपडी में छिपा दिया। आटो को लेकर नहर के किनारे छोड़कर चले गए। आटो चालक की मोबाइल का सिम निकालकर तोडकर दूर खेत में फेंक दिया।

Back to top button
error: Content is protected !!