fbpx
ख़बरेंचंदौलीराज्य/जिला

वाह! शबा खान बच्चों को बता रहीं प्रॉमिस डे का सही अर्थ

चंदौली। इंडियन केयर सोशल फाउंडेशन शिक्षा, संस्कार और सुरक्षा के जरिए बच्चों की बुनियाद को मजबूत बना रहा है। फाउंडेशन की संचालक शबा खान ने छात्रों को प्रॉमिस डे का सही अर्थ बताया और बच्चों को घर की मर्यादा मान-सम्मान बनाए रखने का प्रॉमिस कराया। शबा खान कहती हैं कि छोटे बच्चे जब बड़े हो रहे होते हैं तब उनको अच्छे बुरे की खबर नहीं होती। वह तो सपनों की दुनिया में जी रहे होते हैं। जो समाज में चल रहा होता है उसी से प्रभावित हो जाते हैं। यही वजह है कि मासूम भ्रमित होकर रास्ता भटक जाते हैं। ऐसे में अभिभावक को चाहिए बच्चों को आगाह करें और अपने संस्कारों में बांध कर रखें और सही गलत की पहचान कराएं। नन्हे फूल वह क्या जाने कौन उनका अपना है कौन उनका दुश्मन। अभिभावक को बच्चों को इनकी पहचान करानी चाहिए ताकि बच्चे इन चीजों से बच सकें और घर की मान मर्यादाओं का पालन कर सकें। वैलेंटाइन-डे, रोज-डे, चॉकलेट-डे यह सब युवाओं और बच्चों को भ्रमिक कर रहे हैं। बच्चों को आगाह करना अभिभावक की जिम्मेदारी है। बताया संस्था में न सिर्फ आत्मनिर्भर बनने की ट्रेनिंग दी जाती है बल्कि यहां बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा, कोचिंग क्लासेस और मान सम्मान मर्यादाओं का पालन करना भी सिखाया जाता है। जहां बच्चे आदर्श सीखते हैं।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button