fbpx
चंदौलीप्रशासन एवं पुलिसराज्य/जिला

..जब टीचर बने चंदौली डीएम, परिषदीय स्कूल के बच्चों को पढ़ाई गणित, कई डाक्टरों का वेतन भी रोका

.चंदौली। जिलाधिकारी संजीव सिंह शुक्रवार को सरकारी अस्पतालों के निरीक्षण पर निकले। कई अस्पतालों की जांच में इस दौरान आधा दर्जन चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मी गायब मिले। एक अस्पताल पर तो अस्पताल मात्र चौकीदार मौजूद था। बताया कि डाक्टर कई दिनों से अस्पताल नहीं आ रहे हैं। लापरवाही पर डीएम ने सभी का वेतन रोकने का निर्देश दिया। इसी दौरान प्राथमिक विद्यालय ओयरचक में बच्चों को गणित पढ़ाई और उनका ज्ञान परखा।

चिकित्सकों और चिकित्साकर्मियों का रोका वेतन
डीएम ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बरहनी का जायाजा लिया। इस दौरान प्रभारी चिकित्साधिकारी समेत स्वास्थ्यकर्मी अनुपस्थित थे। स्टोर में दवाइयां बेतरतीब ढंग से रखी मिलीं। कुछ एक्सपायरी डेट की दवाइयां भी मौजूद थीं। प्रसव कक्ष में काफी दिनों से नर्स के न आने की शिकायत मिली। डीएम ने अस्पताल में दुर्व्यवस्थाओं पर नाराजगी जताई। उन्होंने प्रभारी चिकित्साधिकारी का वेतन रोकने और सीएमओ से भी जवाब-तलब का निर्देश दिया। इसके बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अमड़ा पहुंचे। इस दौरान प्रभारी चिकित्साधिकारी अनुपस्थित मिले। मौके पर सिर्फ चौकीदार मौजूद था। बताया कि पिछले कई दिनों से डाक्टर नहीं आ रहे हैं। उन्होंने हेल्थ व वेलनेस सेंटर पईं, बरहनी और ओयरचक का निरीक्षण किया। अस्पताल में व्यवस्थाएं देखी। अस्पतालों में दुर्व्यवस्थाएं मिली। कोरोना काल में लापरवाही पर नाराजगी जताते हुए सुधार के निर्देश दिए।

छात्रों को पढ़ाई गणित, परखा ज्ञान
अंत में ओयरचक प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण किया। बच्चों से पठन-पाठन के बारे में जानकारी ली। कक्षा छह, सात व आठ के बच्चों से गणित का प्रश्न भी ब्लैक बोर्ड पर हल करवाया। शिक्षकों को निर्देशित किया कि कोरोना के चलते बच्चों की पढ़ाई छूट गई। उनका कोर्स पूरा कराने के लिए अतिरिक्त कक्षाएं संचालित की जाएं।

Back to top button
error: Content is protected !!