fbpx
चंदौलीराज्य/जिलासंस्कृति एवं ज्योतिष

वाह! कजरहवा मेला.. हाजिरी लगाने मात्र से पूरी होती है पुत्र प्राप्ति की इच्छा

चंदौली। शंकर संकट के नाशक हैं। करुणा के सागर हैं। इसलिए भोलेनाथ हैं। सकलडीहा तहसील के जामडीह गांव में जामेश्वरनाथ मंदिर में हजारों लोग इसी श्रद्धाभाव से मत्था टेकते हैं। मान्यता है कि यहां हाजिरी लगाने मात्र से पुत्ररत्न प्राप्ति की इच्छा पूरी होती है। कोरोना संकट के बावजूद रविवार को हजारों भक्तों ने दर्शन पूजन किया। विभिन्न जनपदों के अलावा अन्य प्रांतों से श्रद्धालु यहां मनोभाव से पहुंचे। लोगों के भारी जुटान से यहां मेला लग जाता है जिसे लोग कजरहवा मेला के नाम से जानते हैं। पुलिस प्रशासन और गांव की कमेटी सक्रिय रही। लोगों से शारीरिक दूरी का पालन कराया गया।

बाब जामेश्वरनाथ धाम पुत्ररत्न की प्राप्ति के लिए जाना जाता है। इस धाम पर यूपी के कई जनपदों के अलावा बिहार, बंगाल, मध्यप्रदेश सहित अन्य प्रांतों से श्रद्धालुगण पहुंचते हैं। इस धाम पर दीपावली के दिन से ही भक्तों का जुटान शुरू हो जाता है। आस्था है कि जो दंपत्ति यहां पर सच्ची श्रद्धा के साथ बाबा के चाौखट पर आता है उसको पुत्ररत्न की प्राप्ति निश्चित हो जाती है। यह धाम कई धार्मिक किदवंतियों से भरा पड़ा है। इसलिए लाखों भक्तों की आस्था का प्रमुख केंद्र है। आयोजन कमेटी के सदस्य जितेन्द्र राजभर और सहेन्द्र राजभर ने बताया कि यहां दो दिवसीय मेला लगता है। लेकिन इस वर्ष कोरोना संकट को देखते हुए भीड़ नहीं होने दिया गया। मंदिर में प्रवेश करने वाले हर भक्तों को मास्क अनिवार्य किया गया था। शांति और सुरक्षा की दृष्टि से भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात रही।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button