fbpx
ख़बरेंचंदौलीराज्य/जिला

पीडब्लूडी ही दोषी नहीं, पुलिस और परिवहन विभाग भी सड़कों की दुर्दशा के जिम्मेदार

चंदौली। निर्माण में गुणवत्ता की कमी सड़कों के क्षतिग्रस्त होने की एक वजह हो सकती है। लेकिन सड़कों की बदहाली के लिए केवल एक विभाग को दोषी ठहरा देना अन्य गुनहगारों को माफी देने की तरह है। बात चंदौली सकलडीहा वाया सैदपुर मार्ग की। सड़क इस कदर खराब हो चुकी है कि इसपर यात्रा करना दुश्वारी से कम नहीं। इस मार्ग पर ओवरलोड ट्रकों की आवाजाही बेरोकटोक जारी है। लेकिन पुलिस और उप संभागीय परिवहन विभाग आंख मूदे पड़े हैं। जब शिकायतों का पुलिंदा बढ़ जाता है तो लोक निर्माण विभाग पर दोष मढ़कर कार्य की इतिश्री कर ली जाती है।


ओवरलोड ट्रकों को लेकर वैसे भी एआरटीओ और पुलिस का चेहरा बेनकाब हो चुका है। ओवरलोड ट्रकों के वसूली को लेकर एआरटीओ की जांच भी चल रही है। जबकि पिछले ही दिनों एक आडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक ट्रक चालक के पुलिस की वसूली भी पोल खोल दी थी। बावजूद इसके जिला, ग्रामीण और राज्यमार्गों पर ओवरलोड ट्रकों का आवागमन जारी है। सड़कें तेजी से टूट रही हैं और सरकार को लाखों रुपये के राजस्व का नुकसान हो रहा है। सड़कों को गड्ढामुक्त करने की योगी सरकार की मंशा भी परवान नहीं चढ़ पा रही। ऐसा नहीं कि सड़कों पर काम नहीं हो रहा लेकिन ओवरलोड वाहनों से चलने से सड़कें बनने के बाद ही टूट भी जा रही हैं। इस बाबत एक्सईएन लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खंड डीपी सिंह कहते हैं कि ओवरलोडिंग से सड़कों को काफी नुकसान हो रहा है। इस संबंध में पत्राचार करने के बावजूद जिम्मेदार विभागों का सहयोग प्राप्त नहीं हो रहा। उच्चाधिकारियों को भी इस समस्या से अवगत कराया जाता है।

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!