वाराणसी

भारत 2025 तक TB खत्म करने के लक्ष्य पर काम कर रहा है, इस वैश्विक संकल्प को काशी एक नई ऊर्जा देगी – PM मोदी

वाराणसी। काशी नगरी, वो शाश्वत धारा है, जो हजारों वर्षों से मानवता के प्रयासों और परिश्रम की साक्षी रही है। काशी इस बात की गवाही है कि चुनौती कितनी ही बड़ी क्यों न हो, जब सबका प्रयास होता है, तो रास्ता भी निकलता है। टीबी जैसी बीमारी के खिलाफ हमारे वैश्विक संकल्प को काशी एक नई ऊर्जा देगी। ये बात शुक्रवार को वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कही।पीएम नरेन्द्र मोदी ने रुद्राक्ष कन्वेंशन में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आयोजित तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय टीबी समिट का शुभारंभ किया।

निक्षय मित्र बनने का आवाहन किया
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंच गए हैं। पीएम यहां करीब 17,80 करोड़ रुपये से ज्यादा की अलग-अलग परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में पीएम मोदी ने कहा TB के खिलाफ लड़ाई में, भारत ने जो बहुत बड़ा काम किया है, वो है- People’s Participation, जनभागीदारी है। हमने TB मुक्त भारत के अभियान से जुड़ने के लिए देश के लोगों से निक्षय मित्र बनने का आवाहन किया था।

One Earth, One Health’ के vision को भी आगे बढ़ाने की पहल
इस अभियान के बाद करीब 10 लाख टीबी मरीजों को देश के सामान्य नागरिकों ने एडॉप्ट किया है, गोद लिया है। पीएम मोदी ने आगे कहा – कुछ समय पहले ही भारत ने ‘One Earth, One Health’ के vision को भी आगे बढ़ाने की पहल की है। और अब, ‘One World TB Summit’ के जरिए भारत, Global Good के एक और संकल्प को पूरा कर रहा है। कोई भी TB मरीज इलाज से छूटे नहीं, इसके लिए हमने नई रणनीति पर काम किया।

2025 तक टीबी खत्म करने के लक्ष्य पर हो रहा काम
पीएम ने बताया टीबी के मरीजों की स्क्रीनिंग के लिए, उनके ट्रीटमेंट के लिए हमने उन्हें आयुष्मन भारत योजना से जोड़ा है। टीबी की मुफ्त जांच के लिए हमने देशभर में लैब्स की संख्या बढाई है। टीबी खत्म करने का ग्लोबल टार्गेट साल 2030 है। भारत अब वर्ष 2025 तक टीबी खत्म करने के लक्ष्य पर काम कर रहा है। PM मोदी ने बटन दबाकर राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और उच्च रोकथाम प्रयोगशाला, वाराणसी शाखा का शिलान्यास किया।

Back to top button
error: Content is protected !!