fbpx
चंदौलीचुनाव 2024

Loksabha Election 2024 : सपा प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह ने भाजपा प्रत्याशी डा. महेंद्रनाथ पांडेय पर लगाया दबंगई का आरोप, जानिये क्या हुआ नामांकन कक्ष के भीतर

बोले, मुहुर्त के नाम पर डा. पांडेय ने डीएम को जबर्दस्ती पकड़ा दिया नामांकन पत्र आचार संहिता का घोर उल्लंघन, वकील से बात कर निर्वाचन आयोग से करेंगे शिकायत कहा, नरेन्द्र मोदी ने पेड़ के नीचे बैठकर किया था इंतजार, निर्दल प्रत्याशी के नामांकन के बाद दाखिल किया था पर्चा

चंदौली, लोकसभा चुनाव, प्रत्याशियों के नामांकन, सपा प्रत्याशी ने लगाया आरोप
  • बोले, मुहुर्त के नाम पर डा. पांडेय ने डीएम को जबर्दस्ती पकड़ा दिया नामांकन पत्र आचार संहिता का घोर उल्लंघन, वकील से बात कर निर्वाचन आयोग से करेंगे शिकायत नरेन्द्र मोदी ने नामांकन की दी नजीर, बोले, मोदी ने पेड़ के नीचे बैठकर किया था इंतजार
  • बोले, मुहुर्त के नाम पर डा. पांडेय ने डीएम को जबर्दस्ती पकड़ा दिया नामांकन पत्र
  • आचार संहिता का घोर उल्लंघन, वकील से बात कर निर्वाचन आयोग से करेंगे शिकायत
  • नरेन्द्र मोदी ने नामांकन की दी नजीर, बोले, मोदी ने पेड़ के नीचे बैठकर किया था इंतजार

 

चंदौली। लोकसभा के लिए नामांकन कर कलेक्ट्रेट से बाहर निकले सपा प्रत्याशी वीरेंद्र सिंह ने भाजपा प्रत्याशी व वर्तमान सांसद डा. महेंद्रनाथ पांडेय पर दबंगई का आरोप लगाया है। कहा कि उनका नामांकन अभी पूरा भी नहीं हुआ था कि मुहुर्त के नाम पर डा. पांडेय ने नामांकन कक्ष में जबर्दस्ती अपना पर्चा डीएम को पकड़ा दिया। यह आचार संहिता का घोर उल्लंघन है। अपने वकील से बात कर आयोग को इसकी सूचना देंगे।

 

सपा प्रत्याशी के अनुसार वे तय समय के अनुसार जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे। वहां अपना एक सेट पर्चा दाखिल कर रहे थे, हमारी कार्रवाई पूरी भी नहीं हुई थी, तभी भाजपा प्रत्याशी डा. महेंद्रनाथ पांडेय दबंगई दिखाते हुए नामांकन कक्ष में घुस गए और मुहुर्त का हवाला देते हुए एक सेट नामांकन पत्र डीएम के हांथों में जबर्दस्ती पकड़ा दिया।

 

वीरेंद्र सिंह ने कहा कि यह आचार संहिता का घोर उल्लंघन है। मैनें अपने राजनीतिक जीवन में इस तरह की दबंगई पहली बार देखी है। उन्होंने कहा कि मैनें प्रधानमंत्री को भी पर्चा भरते देखा है। 2014 में एक निर्दल प्रत्याशी पर्चा भर रहा था तो पेड़ के नीचे कुर्सी पर बैठकर नरेन्द्र मोदी ने इंतजार किया। जब निर्दल प्रत्याशी पर्चा भरकर बाहर आया तब वे नामांकन करने गए। उन्होंने कहा कि इसको लेकर वकील से बात करेंगे। इसकी सूचना आयोग को जरूर देंगे।

 

Back to top button
error: Content is protected !!