fbpx
Uncategorizedख़बरेंचंदौली

Chandauli News : 20 हजार की आबादी वाले गांव में ग्राम प्रधान व बीडीसी की आपसी खींचतान में परत दर परत खुल रही भ्रष्टाचार की पोल

जिलाधिकारी ने अधिकारियों की त्रिस्तरीय टीम बनाकर जांच के दिए निर्देश चकिया ब्लाक के सिकंदरपुर ग्राम पंचायत में मनरेगा में हो रहा गड़बड़झाला बीडीओ बोले, जांच में दोषी पाए जाने पर संबंधित पर होगी सख्त कार्रवाई

  • जिलाधिकारी ने अधिकारियों की त्रिस्तरीय टीम बनाकर जांच के दिए निर्देश
  • चकिया ब्लाक के सिकंदरपुर ग्राम पंचायत में मनरेगा में हो रहा गड़बड़झाला
  • बीडीओ बोले, जांच में दोषी पाए जाने पर संबंधित पर होगी सख्त कार्रवाई

चंदौली। चकिया विकास खंड में 20 हजार की सबसे बड़ी जनसंख्या वाले गांव सिकंदरपुर में ग्राम प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्य की आपसी खींचतान में ग्राम विकास के नाम पर हो रहे भ्रष्टाचार की पोल परत दर परत खुलती जा रही है। इस बार मैकेनिक के खाते में मनरेगा की मजदूरी भेजे जाने का मामला प्रकाश में आया है। गड़बड़झाला संज्ञान में आने पर जिलाधिकारी निखिल टी फुंडे ने अधिकारियों की त्रिस्तरीय टीम बनाकर जांच के निर्देश दिए हैं।

कुछ दिनों पूर्व सिकंदरपुर के क्षेत्र पंचायत सदस्य की साइकिल की दुकान पर काम करने वाले मैकेनिक जुबेर के खाते में क्षेत्र पंचायत की ओर से मनरेगा के तहत कराए गए विकास कार्य में बिना काम किए चार किस्तों में 23856 रुपये भेज दिए गए। आरोप है कि बीडीसी के पति मोहम्मद अरशद द्वारा जुबेर से मनरेगा का पैसा मांगने को लेकर दोनों में विवाद हुआ था, जिसके बाद जुबेर ने मामले की शिकायत अपर जिलाधिकारी से की थी। इसका संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी चंदौली ने पूरे मामले की जांच के लिए खंड विकास अधिकारी चकिया जिला समाज कल्याण अधिकारी चंदौली तथा डीपीआरओ की टीम गठित कर दी है।

दूसरी ओर मोहम्मद अरशद की ओर से सिकंदरपुर ग्राम प्रधान के खिलाफ ग्राम पंचायत की सीमा से बाहर कार्य कराए जाने और लाखों का भुगतान करा लिए जाने को लेकर खंड विकास अधिकारी चकिया सहित मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई है। दोनों मामलों को देखा जाए तो गांव के दोनों जनप्रतिनिधियों द्वारा एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है। इससे गांव में  विकास के नाम पर दोनों हाथों से हो रहे लूट खसोट और भ्रष्टाचार के मामले सामने आ रहे हैं। बीडीओ ने कहा कि ग्राम सभा की सीमा के बाहर मनरेगा के तहत कार्य कराया जाना नियम विरुद्ध है। ब्लाकस्तरीय अधिकारियों की टीम का गठित पूरे मामले की जांच की जाएगी। दोषियों पर सख्त कार्रवाई की होगी।

Back to top button
error: Content is protected !!