fbpx
ख़बरेंचंदौली

Chandauli News : मौर्य समाज ने मनाई सम्राट अशोक की जयंती, जीवन काल पर डाला प्रकाश

चंदौली। मौर्य समाज की ओर से मुख्यालय स्थित वार्ड नंबर छह इंदिरा नगर में चक्रवर्ती सम्राट अशोक की जयंती धूमधाम से मनाई गई। उनके जीवन काल पर चर्चा की गई।

event

नागेंद्र प्रताप मौर्य ‘हीरा’ ने कहा कि चक्रवर्ती सम्राट अशोक का जन्‍म 304 ईसा पूर्व में बिहार के पाटलिपुत्र में हुआ था। सम्राट बिन्दुसार के पुत्र और मौर्य वंश के तीसरे राजा के रूप में जाने गए। चंद्रगुप्त मौर्य की तरह ही उनका पोता भी काफी शक्तिशाली था। पाटलिपुत्र नामक स्थान पर जन्म लेने के बाद उन्होंने अपने राज्य को पूरे अखंड भारतवर्ष में फैलाया और पूरे भारत पर एकछत्र राज किया। अशोक को अपने जीवन में बहुत से सौतेले भाइयों से प्रतिस्पर्धा करनी पड़ी। थोड़ा ही बड़ा होने के बाद अशोक की सैन्य कौशल देखने को मिलने लगी थी। उनके युद्ध कौशल को और अधिक निखार देने के लिए शाही प्रशिक्षण की भी व्यवस्था की गयी थी। इस प्रकार से अशोक को काफी कम आयु में तीरंदाजी के साथ अन्य जरूरी युद्ध कौशलो में काफी अच्छी महारथ मिल चुकी थी। इसके साथ ही वे उच्च कोटि के शिकारी भी थे और उनके एक छड़ी से शेर को मारने की कला का भी वर्णन मिलता है। उनकी प्रतिभा को देखते हुए उन्हे मौर्य शासन के अवन्ति में होने वाले दंगों को रोकने भी भेजा गया था। अपने समय के दो हजार वर्षो ने बाद भी अशोक के राज्य के प्रभाव दक्षिण एशिया में देखने को मिलते है। अपने काल में जो अशोक चिह्न निर्मित किया था उसका स्थान आज भी भारत के राष्ट्रीय चिह्न में है। इस दौरान नरेंद्र मौर्य, सानंद मौर्य, प्रह्लाद मौर्य, विजय मौर्य, अमित मौर्य, ईश्वर दत्त मौर्य, दिवेश मौर्य, राजकुमार मौर्य, ओमिका मोर्या, रेखा मौर्या, इंद्रजीत मौर्य, आनंद मौर्य, राहुल मौर्य, भगेलू मौर्य, मनोज मौर्य, मार्कंडेय मौर्य, दिव्यांशु मौर्य, वेदप्रकाश मौर्य, प्रकाश मौर्य,  सूरज, रोहित, छैबर मौर्य, सुराजी देवी, महेंद्र मौर्य, नथुनी चौहान सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे। अध्यक्षता गौरी शकंर व संचालन भोलानाथ विश्वकर्मा ने किया।

Back to top button
error: Content is protected !!