fbpx
चंदौलीराज्य/जिला

UVSS सिस्टम से मजबूत हुई डीडीयू जंक्शन की सुरक्षा, जानिए कैसे करेगा काम

चंदौली। पं. दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन की सुरक्षा अब पहले से अधिक मजबूत हो गई है। रेलवे स्टेशन और यात्रियों की सुरक्षा के लिए रेलवे स्टेशन के बाहर पार्किंग स्थल अब UVSS सिस्टम से लैस हो चुका है। रेलवे के जीएम ललित चंद्र त्रिवेदी ने बीते गुरुवार को इस सिस्टम का उद्घाटन किया। इसे स्टेशन परिसर के पार्किंग में एंट्री गेट पर इंस्टॉल कर दिया गया है।

डीडीयू जंक्शन की सुरक्षा अब चाक-चाौबंद और नई तकनीकों के सहारे मुकम्मल होती नजर आ रही है। जंक्शन अब uvss सिस्टम यानि अंडर व्हीकल सर्विलांस सिस्टम से लैस हो चुका है। इस सिस्टम के जरिए पार्किंग में पहुंचने वाले तमाम वाहनों की गहनता और सूक्ष्मता से जांच हो रही है। इस टेक्नोलॉजी के जरिए uvss सिस्टम के ऊपर गुजरने से वाहनों के चेसिस नंबर, गाड़ी का नंबर, ड्राइवर का चेहरा कैद हो जाता है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग आधारित सुरक्षा निगरानी में अग्रणी कंपनी वीहांत टेक्नोलॉजीज द्वारा निर्मित अंडर व्हीकल सर्विलांस सिस्टम (uvss ) एक पूरा कैमरा सिस्टम है जो हार्ड वेयर और सॉफ्टवेयर के संयोजन से चेकपॉइंट से गुजरने वाले वाहनों के नीचे के हिस्से को स्कैन करता है, और यही वाहन का एकमात्र क्षेत्र है जिसे कभी भी लॉक या सील नहीं किया जा सकता है इसलिए वाहन निरीक्षण प्रणाली के तहत स्वचालित की आवश्यकता होती है।

जानिए कैसे काम करता है अत्याधुनिक सिस्टम

दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन के अधिकारियों का कहना है की वाहनों में संदिग्ध सामान या फिर रेलवे स्टेशन पर किसी भी तरह की अप्रिय वारदात होने पर अहम सुराग के लिए इस सिस्टम को लगाया गया है । इस तकनीक पर ज्यादा खर्च या लागत नहीं आती एक बार सिस्टम लगने के बाद सिर्फ इसके मेंटेनेंस की ही जरूरत पड़ती है ।

वीहांत टेक्नोलॉजीज के सीईओ और सह संस्थापक  कपिल बरडेजा के अनुसार, वीहांत टेक्नोलॉजीज लोगों को किसी भी कीमत पर सुरक्षित रखने के एकमात्र उद्देश्य के साथ चैबीसों घंटे काम कर रहा है। uvss विनाशकारी और अवैध वस्तुओं का पता लगाने के लिए भौतिक उपकरणों की आवश्यकता को समाप्त करता है।यह किसी भी मौसम में काम करने में सक्षम है। सिस्टम के संचालन और सुरक्षा की तमाम जिम्मेदारी आरपीएफ के जिम्मे है।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button