fbpx
चंदौलीराजनीतिराज्य/जिला

Chandauli news: अपने गांव और बूथ तक पर डा. महेंद्र नाथ पांडेय को बढ़त नहीं दिला सके उनके खास सलाहकार, मिली हार

चंदौली। भारी उद्योग मंत्री चुनाव हारे हैं तो चर्चा तो होगी ही। पहली दफा चंदौली जिला राजनीतिक रूप से इतना समृद्ध और सशक्त हुआ है। दो राज्य सभा सांसद, तीन विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष, आधा दर्जन ब्लाक प्रमुख, एक एमएलसी बावजूद खाते में हार दर्ज हुई। चलिए ये तो बड़े नाम हैं। लेकिन पूर्व केंद्रीय मंत्री डा. महेंद्र नाथ पांडेय के खास सलाहकार और उनके नाम पर भौकाल टाइट करने वाले भी अपने गांव और बूथ पर प्रत्याशी को जीत नही दिला सके। खबर में ऐसे ही कुछ गांव और बूथों की समीक्षा करेंगे।

सकलडीहा विधान सभा के बहबलपुर में दो बूथों पर सपा के विरेंद्र सिंह को 571 वोट और महेंद्र पांडेय को 536 वोट मिले। जबकि केंद्रीय मंत्री के पीए मृत्युंजय उपाध्याय इसी गांव के निवासी हैं और पिछले तकरीबन एक दशक से केंद्रीय मंत्री के साथ जुड़े हैं। पूर्व जिलाध्यक्ष सर्वेश कुशवाहा को पूर्व केंद्रीय मंत्री का सबसे करीबी माना जाता है। मंत्री जी के आशीर्वाद से दो दफा जिलाध्यक्ष रहे। चुनाव संचालन की जिम्मेदारी भी इनके जिम्मे थी। लेकिन सकलडीहा विधान सभा के इनके बूथ नंबर 41 पूरा से बीजेपी प्रत्याशी को करारी शिकस्त मिली। डा. महेंद्र नाथ पांडेय को महज 163 वोट मिले जबकि प्रतिद्वंदी वीरेंद्र सिंह को 401 वोट प्राप्त हुए। पूर्व केंद्रीय मंत्री के एक और बेहद करीबी और खास सलाहकार पूर्व जिलाध्यक्ष अभिमन्यू सिंह के गांव बिसौरी के सभी बूथों पर भाजपा पिछड़ गई। एक बूथ पर तो बसपा प्रत्याशी से भी कम वोट मिले। बिसौरी गांव के चार बूथों पर सपा के वीरेंद्र सिंह को 1125 मत प्राप्त हुए जबकि डा. महेंद्र नाथ पांडेय को लगभग आधे मत 655 प्राप्त हुए। एक और पूर्व जिलाध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री के साथ मंच पर नजर आने वाले अनिल सिंह के सकलडीहा विधान सभा के गांव सर्फुद्दीनपुर में भाजपा प्रत्याशी पिछड़ गए हैं। यहां से सपा को 347 और भाजपा को 137 मत प्राप्त हुए हैं।

Back to top button
error: Content is protected !!