fbpx
चंदौलीप्रशासन एवं पुलिसराज्य/जिला

डीएम के हाथ में जिला पंचायतों की कमान, जांच के बाद ही होगा कार्यों का भुगतान

चंदौली। ग्राम पंचायतों के बाद जिला पंचायतों का कार्यकाल भी बुधवार को समाप्त हो गया। बागडोर जिलाधिकारियों को दे दी गई है जो बतौर प्रशासक जिले की सबसे बड़ी पंचायत को संभालेंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष का खाता सीज होने के बाद डीएम व अपर अधिकारी को सारे वित्तीय व प्रशासनिक अधिकार मिल गए हैं। जिला पंचायत के जरिए गांवों में पांचवें, 14वें वित्त व राज्य वित्त से कराए जाने वाले कार्यों की जांच के बाद ही अब भुगतान होगा।

चंदौली जनपद का हाल

जनपद में जिला पंचायत की 35 सीटें हैं। ग्राम प्रधानों का कार्यकाल 25 दिसंबर को ही समाप्त हो गया। वहीं जिला पंचायत अध्यक्ष व सदस्य का कार्यकाल समाप्त होने के बाद उनके वित्तीय व प्रशासनिक अधिकारी सीज कर दिए गए हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष का डिजिटल हस्ताक्षर अब मान्य नहीं होगा। ऐसे में शासन स्तर से जिलाधिकारी संजीव सिंह को प्रशासक नियुक्त कर दिया गया है। समस्त वित्तीय व प्रशासनिक कार्य और भुगतान डीएम व अपर अधिकारी के हस्ताक्षर से ही कराए जाएंगे। जिला पंचायत के जरिए 14वें, पांचवें व राज्य वित्त से ग्राम पंचायतों में विभिन्न कार्य कराए जा रहे हैं। अधिसूचना जारी होने के बाद भी विकास कार्य जारी रहेंगे। अफसर फूंक-फूंककर कदम उठा रहे हैं। अब बिना जांच के विकास कार्यों का भुगतान नहीं होगा। ऐसे में कार्यदाई संस्थाओं व ठीकेदारों पर शिकंजा कस गया है।
अपर अधिकारी जिला पंचायत कमलेश सिंह ने बताया कि जिला पंचायत अध्यक्ष व सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो गया है। शासन ने जिलाधिकारी को बतौर प्रशासक नियुक्त किया है। विकास कार्य जारी रहेंगे, लेकिन भुगतान जांच-पड़ताल के बाद ही किया जाएगा।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button