fbpx
चंदौलीराजनीतिराज्य/जिला

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता सोनकर ने दी प्रतिक्रिया, चकिया से मांग रहीं टिकट

संवाददाता: कार्तिकेय पाण्डेय

चकिया। भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य पाला बदलकर सपा में चले गए हैं। अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया है। प्रदेश में राजनीतिक समीकरण तेजी से बदल रहे हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे पर सियासी माहौल गर्म है। हालांकि बीजेपी नेता इसे पार्टी के लिए झटका नहीं मान रहे। पूर्वांचल टाइम्स से बातचीत में वाराणसी की पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष और चकिया विधानसभा से भाजपा से दावेदारी कर रहीं अपराजिता सोनकर ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य और कुछ विधायकों के इस्तीफा देने से बीजेपी पर कोई असर होने वाला नहीं है। कोई असर नहीं पड़ने वाला है। इनको पार्टी की नीतियां अगर नहीं पसंद थी तो दो साल पहले ही इनको इस्तीफा दे देना चाहिए था। स्वामी प्रसाद मौर्य और उनका परिवार पांच वर्ष सत्ता का सुख भोगते रहे और जब चुनाव नजदीक आया तो उन्होंने इस्तीफा दे दिया। जनता सब जानती है आने वाले चुनाव में जनता को तय करना है कि कौन उनका भला कर रहा है और कौन उनका बुरा कर रहा है। अखिलेश यादव के साथ साझा की गई तस्वीरों को लेकर कहा कि अभी स्वामी प्रसाद मौर्य ने केवल अखिलेश के साथ फोटो ही खिंचाई है। पार्टी की सदस्यता ग्रहण नहीं की है। मीडिया के सवालों का जवाब वह नहीं दे पा रहे हैं। कहा कि हम पिछले चुनाव में भी 300 के पार थे और इस चुनाव में भी 300 के पार रहेंगे। भाजपा एक बार फिर से सरकार बनाएगी।

On The Spot

खबरों के लिए केवल पूर्वांचल टाइम्स, अफवाहों के लिए कोई भी। हम पुष्ट खबरों को आप तक पहुंचाने के लिए संकल्पिक हैं।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!